हनुमान जयंती विशेष : हनुमान जी देंगे स्वप्न में दर्शन

इस बार 22 अप्रैल 2016 को हनुमान जयंती पर करे सरल उपाय
स्वप्न में दर्शन देने आयेंगे हनुमान जी




श्री हनुमान जयन्ती की अग्रिम शुभकामनायें।

यदि आप भी भगवान के  सच्चे भक्त हैं और चाहते हैं कि प्रभु कभी तो आपके सामने आएं, कभी तो उनके दर्शन हों, कभी तो वे स्वयं आपको आशीर्वाद देने आएं, तो शायद इसे संभव करने में कुछ आसान से उपाय आपके सहायक हो सकते हैं। असल जीवन में चाहे ना ही सही, लेकिन स्वप्न में प्रभु स्वयं प्रकट होकर आपको आशीर्वाद दें, ऐसा होना संभव है।

हम किसी प्रकार के जादू या टोने-टोटके की बात नहीं कर रहे। यह धार्मिक कर्म-कांडों से ही संभव है। इसके लिए सही रूप से किया गया कर्म एवं आपकी पूर्ण श्रद्धा की जरूरत है। भारत की प्राचीनतम विधा तंत्र शास्त्र की मदद से स्वप्न में भगवान हनुमान दर्शन दे सकते हैं।

हनुमान जयंती को करे ये कार्य.



हनुमान जयंती या महीने के किसी भी मंगलवार के दिन सुबह उठकर नित्य कर्म से निवृत्त होकर साफ वस्त्र धारण करें। अब एक लोटा जल लेकर हनुमानजी के मंदिर में जाएं और उस जल से हनुमानजी की मूर्ति को स्नान कराएं।

अगले दिन से शुरू करे उपाय.

मंगलवार को यह कार्य करने के बाद अगले दिन से रोज़ाना आपको आगे बताया जा रहा एक उपाय करना है। इस उपाय के अनुसार पहले दिन आपको एक दाना साबूत उड़द दाल का हनुमानजी की मूर्ति के सिर पर रखकर ग्यारह बार परिक्रमा करें। इस परिक्रमा के दौरान अपने मन में उस मनोकामना का भी ध्यान करें जिसकी पूर्ति आप हनुमानजी से चाहते हैं।

हनुमान जी को बताये अपनी मनोकामना.

परिक्रमा पूर्ण होने पर स्वयं हनुमानजी की मूर्ति के सामने अपनी मनोकामना कहें, फिर वह उड़द का दाना लेकर घर लौट आएं तथा उसे अलग रख दें।

41 दिन तक करें उपाय.

अब दूसरे दिन भी यही कार्य दोहराना है, लेकिन उड़द का दाना दिनों के हिसाब से एक-एक करके बढ़ाते रहना है। उदाहरण के लिए यदि पहले दिन एक दाना इस्तेमाल किया था तो दूसरे दिन दो दाने होने चाहिए। इसी तरह से 41वें दिन 41 उड़द के दाने प्रयोग करके परिक्रमा करें और मनोकामना कहें।

कृपा करेंगे राम भक्त हनुमान देंगे स्वप्न में दर्शन.




अब 41वें दिन के बाद एक-एक दाना कम करना है। यदि 41वें दिन 41 दाने थे तो, 42वें दिन ये 40 होने चाहिए। इसी तरह से 43वें दिन 39 दाने हों। ऐसा करते हुए 81वें दिन उड़द का एक दाना होना चाहिए। तंत्र शास्त्र के अनुसार यदि इन सभी 81 दिनों में भक्त ने पूरे भक्ति भाव से हनुमानजी की परिक्रमा की होगी, तो उपाय के 81वें दिन की रात को हनुमानजी जरूर स्वप्न में दर्शन देते हैं।

उपाय पूर्ण होने पर करे ये.

उपरोक्त उपाय में एकत्रित किए गए उड़द के दानों को उपाय पूर्ण होने के बाद बहते जल में प्रवाहित कर देना चाहिए। इसी तरह से तंत्र शास्त्र का एक और उपाय है, जिससे हनुमान जी भक्त की मनोकामना अवश्य पूर्ण करते हैं।

उपर्युक्त उपाय को सच्ची श्रद्धा व् भाव के साथ पूरा करे तो  अंजनी सुत हनुमान आपकी मनोकामना अवश्य पूर्ण कर आपको स्वप्न में दर्शन देंगे।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने