उपाय : शनिदेव को प्रसन्न करने के आसान उपाय

सनातन धर्म में शनिदेव न्याय , धर्म व् दण्डाधिकारी माने गए है। हमारे शास्त्रों और धर्म ग्रंथो में शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए अनेकों आसान से उपाय और नियमो का वर्णन है। मान्यता है कि यदि किसी रंक पर शनिदेव की कृपा हो जाये तो वो रातों रात रंक से राजा बन जाता है।

शनिवार के दिन विशेष विधि से शनिदेव की  उपासना से सन्ताप, दुःख, क्लेश, भय आदि का नाश  हो कर के जीवन में हर्ष , शांति समृद्धि ,सौभाग्य का आगमन होता है।।
शनिदेव को प्रसन्न करने के कुछ उपायों का वर्णन -:-






1.) सरसों के तेल से प्रसन्न होते हैं शनि देव:
ऐसा कहा जाता है कि सूर्योदय से पूर्व पीपल की पूजा करने पर शनि देव अत्यधिक प्रसन्न होते हैं। शनि को खुश करने के लिए शनिवार को पीपल के पेड़ की पूजा करनी चाहिए और उस पर सरसों के तेल में लोहे की कील डालकर चढ़ाना चाहिए।

2.) शनि देव को तेल चढ़ाते समय इस मंत्र का जाप करें:
नमस्ते कोणसंस्थाय पिडगलाय नमोस्तुते। नमस्ते बभ्रुरूपाय कृष्णाय च नमोस्तु ते।।  नमस्ते रौद्रदेहाय नमस्ते चान्तकाय च। नमस्ते यमसंज्ञाय नमस्ते सौरये विभो।। नमस्ते यंमदसंज्ञाय शनैश्वर नमोस्तुते। प्रसादं कुरू देवेश दीनस्य प्रणतस्य च।।

3.) शनिदेव की मूर्ति पर 43 दिन तक लगातार चढ़ाएं तेल :
शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए आपको उगते सूरज के समय लगातार 43 दिनों (रविवार को छोड़कर) तक शनिदेव की मूर्ति पर तेल चढ़ाना चाहिए। शनि देव को प्रसन्न करने का यह उपाय शनिवार के दिन ही आरंभ करनी चाहिए।

4.) दशरथ द्वारा लिखा गया दशरथ स्तोत्र का पाठ करें:
इनमें सबसे आसान उपाय है प्रत्येक शनिवार को 11 बार महाराज दशरथ द्वारा लिखा गया दशरथ स्तोत्र का पाठ। शनि महाराज ने स्वयं दशरथ जी को वरदान दिया था कि जो व्यक्ति आपके द्वारा लिखे गये स्तोत्र का पाठ करेगा उसे मेरी दशा के दौरान कष्ट का सामना नहीं करना होगा। शनि महाराज प्रत्येक शनिवार के दिन के दिन पीपल के वृक्ष में निवास करते हैं। इसदिन जल में चीनी एवं काला तिल मिलाकर पीपल की जड़ में अर्पित करके तीन परिक्रमा करने से शनि प्रसन्न होते हैं।

5.) शनिवार का उपवास रखें: शनि देव को शांत रखने के लिए शनिवार को वर्त रखें और काली गाय या भैंस को उड़द, तेल, तिल, नीलम रत्न और ब्रह्माण को काला कंबल, कपड़ा या लोहा दान करें।

 6.)मोतीदान करें: अगर आप शनि दोष से पीडि़त हैं तो इस दिन काली उड़द व कोयले की एक पोटली बनाएं इसमें एक रुपए का सिक्का रखें इसके बाद इस पोटली को अपने ऊपर से उसार कर किसी नदी में प्रवाहित कर दें जिसमें मछलियां रहती हों। और फिर किसी हनुमान मंदिर में जाकर राम नाम का जप करें इससे शनि दोष का प्रभाव कम हो जाएगा.

यहां पढ़े -:-पूजा करते समय इन नियमो का अवश्य ध्यान रखे

7.) शनि से रक्षा करता है कच्चा सूत: शनिवार के दिन पीपल के वृक्ष के चारों ओर सात बार कच्चा सूत लपेटें इस दौरान शनि मंत्र का जाप करते रहना चाहिए, यह आपकी साढ़ेसाती की सभी परेशानियों को दूर ले जाता है। धागा लपेटने के बाद पीपल के पेड़ की पूजा और दीपक जलाना अनिवार्य है। साढ़ेसाती के प्रकोप से बचने के लिए इस दिन उपवास रखने वाले व्यक्ति को दिन में एक बार नमक विहीन भोजन करना चाहिए।

8.) काली गाय की पूजा : इसके लिए आपको काली गाय के माथे पर तिलक लगाने के बाद सींग में पवित्र धागा बांधना होगा और फिर धूप दिखानी होगी। गाये की पूजा करें। अंत में गाय की परिक्रमा करने के बाद उसको चार बूंदी के लड़्डू, उड़द, तेल, तिल भी खिलाएं। यह शनिदेव की साढ़ेसाती के सभी प्रतिकूल प्रभावों को रोकता है।

9.) गुड़ और काले चने: हर शनिवार बंदरों और कुत्तों को गुड़ और काले चने खिलाएं, इसके अलावा केले या मीठी लाई भी खिला सकते हैं। यह भी शनिदेव के अशुभ प्रभाव को समाप्त करने में काफी मददगार होता है।

10.) कैसे खिलाएं गाय को रोटी: किसी भी शनिवार आटे (चोकर सहित) दो रोटियां बनाएं। एक रोटी पर सरसों का तेल और मिठाई रखें जबकि दूसरे पर घी। पहली रोटी (तेल और मिठाई वाली) एक काली गाय को खिलाएं उसके बाद दूसरी रोटी (घी वाली) उसी गाय को खिलाएं। यह उपाय भी शनि के प्रभाव के कारण उत्पन्न हुई समस्याओं को समाप्त करता है|

11.) काला धागा शनि को प्रसन्न करता है: शनिवार के दिन आप अपने हाथ की लंबाई का 19 गुणा लंबा एक काला धागा लें उसे एक माला के रूप में बनाकर अपने गले में धारण करें। यह अच्छा परिणाम देगा और भगवान शनि को आप पर कृपावान बनाएगा।

12.) शाम को जलाएं दीपक: शनिवार की शाम पीपल के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाना चाहिए, इसके बाद पेड़ के सात चक्कर लगाने चाहिए। इस पूजा के बाद किसी काले कुत्ते को 7 या 11 लड्डू खिलाने से शनि भगवान प्रसन्न होते हैं और आपकी मनोकाना पूर्ण करते हैं।

13.) शनिदेव के मंदिर में जूते छोड़ आना:  मान्यता है की शनिवार को जब आप शनिदेव के मंदिर में प्रणाम करने जाएं तो चमड़े के काले रंग के जूते पहन कर जाएं और वापसी पर नंगे पांव घर आएं। जिन लोगों की राशि पर साढ़ेसाती या ढैया चल रही हो या राशि में शनि अच्छे स्थान पर न हो उन लोगों पर जल्द ही शनिदेव की कृपा होगी।

14.) कौऐ को गुलाब जामुन खिलाएं: अगर कौओं को शनिवार के दिन गुलाब जामुन खिलाया जाए, तो शनिदेव की कृपा मिल सकती है। इसी तरह काले रंग के हाथी की सेवा करने से भी शनि देव से सकारात्मक प्रभाव मिल सकता है।


15.) गरीबों को भोजन: शनिवार को गरीबों को भोजन कराना भी शनि के अशुभ प्रभाव को दूर करने में फायदेमंद होता है।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने