Jagat Ke Rang Kya Dekhu (Jaya Kishori)

 Bhajan






__________________


जया किशोरी जी के नए भजनों की अपडेट्स के लिए हमारा फेसबुक पेज BrijGopi Shri Radha जरूर लाइक करें।।
___________________

_________________________________
How To Download?/डाउनलोड कैसे करें? CLICK HERE
__________________________________




Lyrics


जगत के रंग क्या देखूं
तेरा दीदार काफी है
क्यों भटकूं गैरो के दर पे
तेरा दरबार काफी है.......
_____________________________________
•Jaya Kishori : Adharam Madhuram.
•Jaya Kishori : Jai Shri Shyam Hare.

•Devi Chitralekha : Gopi Geet (Live).
Devi Chitralekha : Shri Radha.

नहीं चाहिए दुनिया के
निराले रंग ढंग मुझ को...
चली जाऊ मैं खाटू जी
चली जाऊ मैं खाटू जी
तेरा श्रृंगार काफी है.....
जगत के रंग क्या देखु
तेरा दीदार काफी है.....

जगत के साज बाजो से
हुए है कान अब बहरे
हुए है कान अब बहरे
कहां जा कर सुनू बंसी
कहां जा कर सुनू बंसी
मधुर वो तान काफी है.......
जगत के रंग क्या देखू 
तेरा दीदार काफी है........

--Download Details--

Track Name - Jagat Ke Rang Kya Dekhu  
Voice Jaya Kishori Ji

Tags Krishna Bhajan

Download Link


जगत के रिश्तेदारो ने

बिछाए जाल माया के
बिछाए जाल माया के.....
तेरे भक्तो से हो प्रीती
तेरे भक्तो से हो प्रीती
श्याम परिवार काफी है.....
जगत के रंग क्या देखूं
तेरा दीदार काफी है.....

Download Pdf & Lyrics video

जगत की झूठी रौनक से 
हैं आँखे भर गयी मेरी
हैं आँखे भर गयी मेरी.....
चले आओ मेरे मोहन
चले आओ मेरे मोहन
दरश की प्यास काफी है.....
जगत के रंग क्या देखू
तेरा दीदार काफी है......







Read Here - What is an Mp3 File?


0/Post a Comment/Comments

और नया पुराने