Kamali Shyam Di Kamali (Manoj Sharma)


:Shyam Di Kamali:
-:Manoj Sharma:-








-Download Link-

 Kamali Shyam Di Kamali.

________________________
LYRICS

Download pdf & lyrics

रूप सलोना देख श्याम का
सुध बुध मेरी खोई
रूप सलोना देख श्याम का
सुध बुध मेरी खोई
रूप सलोना देख श्याम का
सुध बुध मेरी खोई
नी मैं कमली होई
नी मैं कमली होई

मैं कमली श्याम दी कमली
मैं कमली श्याम दी कमली
मैं कमली श्याम दी कमली
मैं कमली श्याम दी कमली

सखी पनघट पे यमुना के तट पे
ले कर पहुँची मटकी
सखी पनघट पे यमुना के तट पे
ले कर पहुँची मटकी
भूल गयी सब एक बार 
जब छवि देखी नटखट की
देखत ही मैं हुई बावरी
कृष्ण प्यारे कान्हा प्यारे
देखत ही मैं हुई बावरी 
उसी रूप में खोई
नी मैं कमली होई 
नी मैं कमली होई

कदम्ब के नीचे अंखिया मीचे
खड़ा था नन्द का लाला
कदम्ब के नीचे अंखिया मीचे
खड़ा था नन्द का लाला
मुख पे हंसी हाथ में बंसी
मोर मुकुट गल माला
मुख पे हंसी हाथ में बंसी
मोर मुकुट गल माला
तान सुरीली मधुर नशीली
कृष्ण प्यारे कान्हा प्यारे
तान सुरीली मधुर नशीली
तन मन दियो भिगोई
नी मैं कमली होइ
नी मैं कमली होई

सास ननद मोहे पल पल कोसे
हर कोई देवे ताने
सास ननद मोहे पल पल कोसे
हर कोई देवे ताने
बीत क्या मुझ बिरहन पर
ये कोई ना जाने
बीत क्या मुझ बिरहन पर
ये कोई ना जाने
पूछे सब निर्दोष बावरी 
कृष्ण प्यारे कान्हा प्यारे
पूछे सब निर्दोष बावरी 
तट पे तू काहे गयी
पूछे सब निर्दोष बावरी 
तट पे तू काहे गयी
नी मैं कमली होई
नी मैं कमली होई

रूप सलोना देख श्याम का
सुध बुध मेरी खोई
रूप सलोना देख श्याम का
सुध बुध मेरी खोई
रूप सलोना देख श्याम का
सुध बुध मेरी खोई
नी मैं कमली होई
नी मैं कमली होई

मैं कमली श्याम दी कमली
मैं कमली श्याम दी कमली
मैं कमली श्याम दी कमली
मैं कमली श्याम दी कमली

सिर मोर मुकुट कानन कुण्डल
सखी पीताम्बर वनमाल पड़े है
पग नुपुर कटि काछनी काछे
कर में प्यारी मुरली धरे है
बिंदु अधर मतवारे नैना
मंद मंद मुस्कान धरे है
बांके की इस बाँकी छवि पर
एक नहीं यहाँ लाखो मरे है

कमली श्याम दी कमली
कमली श्याम दी कमली

सिर मोर मुकुट कानन कुंडल
सखी कांधे श्याम धरी कमली
ज़िमे कमल पे शोभित है भंवरा
ज़िमे श्याम पे शोभित है कमली
कमलो के हार पड़े गले में
कृष्ण प्यारे कान्हा प्यारे
कमलो के हार पड़े गले में 
सखी देखत ही भयी कमली
कमली वाले कमलाइ
मने लोग कहें कमली कमली

Download pdf & lyrics

कमली श्याम दी कमली
कमली श्याम दी कमली

क्या रंगी जमाल चेहरा
आँखों को भा गया है
आँखों के रास्ते वो 
दिल में समा गया है
पेड़ कदम्ब की छयां ठाडो
यशोमति की नैनन को तारो
एक एक ब्रिज की रमणी ने
या पर तन मन धन सब वारो

नी मैं कमली होइ
मैं कमली होइ

रूप सलोना देख श्याम का
सुध बुध मेरी खोई
रूप सलोना देख श्याम का
सुध बुध मेरी खोई
रूप सलोना देख श्याम का
सुध बुध मेरी खोई
नी मैं कमली होई
नी मैं कमली होई









Read Here - What is an Mp3 File?

2/Post a Comment/Comments

टिप्पणी पोस्ट करें

और नया पुराने