Prem Jab Anant Ho Gaya[ Devkinandan Thakur ji Maharaj]

Bhajan

Prem Jab Anant Ho 
Devkinandan Thakur Ji Maharaj
________________________________



-Download Details-

Track Name - Prem Jab Anant Ho Gaya
_____________________________________




-Download Link-


_______________________________
Read Here- कब आते है भगवान्?
________________________________
__________________
-Lyrics-
प्रेम जब अनन्त हो गया
रोम रोम संत हो गया
छाई हरियाली समस्त रोम रोम में
दीखते श्री राम जो व्यापक है व्योम में।
सुस्क ही बसंत हो गया
रोम रोम संत हो गया
प्रेम जब अनंत हो गया
रोम रोम संत हो गया

दुनिया के नाते न कुछ भी सुहाते
बीते उमर राम यश गाते गाते
अपना सियकंत हो गया
रोम रोम संत हो गया

जहाँ देखता हूँ वहीँ ही मेरे राम हैं
मन को मेरे मिल जाता सहज ही विराम है
द्वैत का जो अंत हो गया
रोम रोम संत हो गया
टूटी है आस अब झूटे जगत से
सिया अनुज को सुहाते सारे भगत से
सद्गुरु सुमंत हो गया
रोम रोम संत हो 
प्रेम जब अनन्त हो गया
रोम रोम संत हो










Read Here - What is an Mp3 File?

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने