21 जून : आठ राशियों के लिए शुभ नहीं है सूर्यग्रहण

सूर्यग्रहण का विभिन्न राशियों पर शुभाशुभ प्रभाव

जब सूर्य  और पृथ्वी के बीच  में चन्द्रमा  आ जाता है और सूर्य की चमकती सतह चन्द्रमा के कारण दिखाई नहीं पड़ती  है, चन्द्रमा की वजह से  सूर्य ढकने लगता है  इस अवस्था को सूर्य ग्रहण कहते है। 




21 जून को सूर्य ग्रहण  का समय 

21 जून को सूर्य ग्रहण स्पर्श 10:30,  मध्य 12: 17 तक और 2:04  बजे तक मोक्ष होगा


सूर्य ग्रहण से किन -किन राशियों  को  लाभ  और हानि होगी  -

सूर्य ग्रहण से  4 राशियों को  लाभ होगा।

मेष - इस राशि वाले  लोगो के लिए धन का लाभ होगा।
सिंह - इस राशि वाले जातकों का दाम्पत्य जीवन मधुर रहेगा। जीवनसाथी के द्वारा  धन लाभ  लाभ होगा।
कन्या - इस राशि वाले मनुष्यों को कोई ऐसा समाचार मिल सकता है जिसे सुनकर मन का सुख होगा।
मकर - इस राशि वाले मनुष्यों को सुख की प्राप्ति होगी।

इन राशियों को सूर्यग्रहण से होगी हानि- 



बृषभ - इस राशि वाले जातकों  को आर्थिक और कार्यक्षेत्र में हानि होने का योग है
मिथुन  - इस राशि वाले लोगो को घात  होने की सम्भावना है। वाहन प्रयोग करते समय विशेष सावधानी रखे। चोट आदि लगने का योग है।

कर्क - इस राशि  के लोगों  को  भूमि आदि के मामले में झगड़ा होने की सम्भावना रहेगी।
तुला - इस राशि वाले लोग अपने आप ही अपमानित महसूस करेंगे। इसलिए अपनी वाणी और क्रोध पर नियंत्रण रखें, व्यर्थ विवाद हो सकता है।

वृश्चिक -  इस  राशि के लोगो को महाकष्ट हो सकता है।  शांति के लिए भगवान् का हृदय से स्मरण करें।
धनु - इस राशि के लोगो  को स्त्रीकष्ट और पति पत्नी  से झगड़ा होने की  सम्भावना हो सकती है।

कुम्भ - इस राशि के लोगो के मन में चिंता होगी। मानसिक तनाव हो सकता है।
मीन  - इस राशि के लोगो को शारीरिक कष्ट होगा। ग्रहण का प्रभाव स्वास्थ्य पर भी पड़ सकता है।  ईश्वर का मन में स्मरण करें।


सूर्यग्रहण के समय बरतें ये सावधानियां -




सूर्य ग्रहण पड़ने से पहले सूतक के समय से लेकर मोक्ष ( ग्रहण के अंत तक ) सावधनियाँ  रखें।

1 . सूर्य ग्रहण के समय भोजन नहीं करना चाहिए।
2. सूतक  एवं ग्रहण काल  में झूट कपट से करने से  बचना चाहिए
3. ग्रहण काल  के  प्रभाव से बचने के लिए जप , ध्यान करना चाहिए।
4 . ग्रहण के समय मनुष्य को मूर्ति  स्पर्श , नाख़ून काटना ,बाल  काटना व् कटवाना आदि कार्य नहीं करने चाहिए।
5. ग्रहण के समय  स्त्री - पुरुष को एक दूसरे का  संग करने से बचना  चाहिए। 
6  ग्रहण के समय बच्चे , वृद्ध , गर्भवती महिला एव  रोगी को दवा लेने में कोई दोष नहीं लगता है
7 ग्रहण के समय मन वचन तथा कर्म से सावधान रहना चाहिए।
8 ग्रहण के मोक्ष के अगले दिन ब्राह्मण  को दान करना चाहिए।
9 ग्रहण के समय मंदिर के कपाट को बंद करें व् भगवान को स्पर्श नहीं करना चाहिए
10 गर्भवती महिला को कटे फल नहीं खाने व कोई काम नहीं करना चाहिए।

0/Post a Comment/Comments

और नया पुराने